हाथियों का झुंड ने कब्रिस्तान का चारदीवारी को किया जमींदोज ,A herd of elephants destroyed the boundary wall of the cemetery

0

ईचागढ़ - सरायकेला-खरसावां जिला के ईचागढ़ प्रखंड क्षेत्र में हाथियों का उत्पात लगातार जारी है। करीब 50 हाथियों का झुंड कुटाम, पिलीद आदि जंगलों में विचरण कर रहा है। रात होते ही गांवों के खेतों , चारदीवारी आदि को नष्ट कर रहा है। वन विभाग के लाख कोशिशों के बावजूद हाथीयों का झुंड क्षेत्र से जाने का नाम नही ले रहा है। वहीं डुमरा गांव में सोमवार की अहले सुबह करीब 2 बजे हाथीयों ने जमकर उत्पात मचाते हुए सांड़ मछुआ, गणेश दत्ता सहित कई किसानों का खेतों में कटे व खड़े धानों को रौंदकर नष्ट कर दिया। वहीं हाथीयों ने कल्याण विभाग से वर्षों पहले बना कब्रिस्तान का चारदीवारी को चारों ओर से तोड़कर जमीनदोज कर दिया। वहीं हाथीयों द्वारा धान व कब्रिस्तान को नष्ट करने की सुचना पर वन रक्षी कैलाश महतो गांव पहुंचे व क्षति का जायजा लिया। उन्होंने किसानों को मुआवजा के लिए आवेदन जमा करने की बात कही । उन्होंने ग्रामीणों को हाथी भगाने में सहयोग करने का अपील भी किया। उन्होंने कहा कि चारों ओर से ग्रामीण अपने अपने गांवों को बचाने के लिए जमा होकर पटाखा आदि फोड़ते हैं, जिससे हाथियों का झुंड को भगाने में दिक्कत हो रहा है। उन्होंने कहा कि वन विभाग के दस्ता के साथ अगर ग्रामीण भी एकजुट होकर सहयोग देंगे तो आपस में टकराव का स्थिति भी नहीं बनेगा और हाथीयों को सुरक्षित क्षेत्र से निकालने में आसानी होगी। मालूम हो कि रविवार को भी 4 दर्जन हाथीयों ने डुमरा गांव के दर्जनों किसानों का खेतों में पके धानों को रौंदकर नष्ट कर दिया था। हाथियों से ग्रामीण खासे परेशान हैं।

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)

--ADVERTISEMENT--

--ADVERTISEMENT--

NewsLite - Magazine & News Blogger Template

 --ADVERTISEMENT--

To Top