Ichagarh breaking: dilapidated Anganwadi center - जर्जर भवन में नैनिहालों का कैसे हो रहा विकास, जबाब देही किसका

0

✍️अरूण कुमार मांझी 

ईचागढ़ - नैनिहालों का शारीरिक मानसिक विकास का लाख वादों के बीच भी 23 वीं सदी में नन्हे मुन्ने बच्चे एक जर्जर भवन में शिक्षा व पौष्टिक आहार का सेवन करने को मजबूर हैं। जी हां यह माजरा हमारे सरायकेला-खरसावां जिला के ईचागढ़ प्रखंड क्षेत्र के सितु पंचायत के रघुनाथपुर गांव का है, जहां जर्जर आंगनबाड़ी केंद्र का भवन में जान जोखिम में डालकर ग्रामीण अपने बच्चों को भेजने में मजबुर है। आंगनबाड़ी भवन करीब 20 वर्षों से जर्जर अवस्था में है। बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्र में देखकर किसी का भी रोंगटे खड़े हो सकते हैं। आंगनबाड़ी भवन का छत का सिलींग उखड़ कर गीर रहा है। छत का लोहे का रड नीकल कर बड़ी दुर्घटना की ओर इशारा करते देखा जा सकता है। भवन का निचला हिस्सा में मिट्टी पोतकर बच्चों को वहीं पर बैठकर पढ़ाया जाता है। पौष्टिक आहार भी खंडहरनुमा भवन में बनाया जाता है और बच्चों के बीच परोसा जाता है । जर्जर और टुटे फुटे गंदे भवन पर पोष्टिक आहार बनाकर परोसना,इस बात को साबित करता है कि आज भी हमारे गांवों में सरकारी कल्याणकारी योजनाओं में कैसे कल्याण हो रहा है। आंगनबाड़ी भवन का अर्श से फर्श तक एक खंडहर सा डरावना प्रतित होता है। मगर करीब 25 उपस्थित नैनिहालों का भविष्य पर किसी का ध्यान आज तक नही गया। कई बार बाल विकास विभाग को सेविका व ग्रामीणों द्वारा जर्जर भवन के संबंध में जानकारी दिया गया है, वाह रे विभाग जानकारी के बावजूद भी बच्चों का भविष्य पर किसी अनहोनी का बाट जोह रहा है। इस खंडहर सा भवन पर नैनिहालों का भविष्य संवारने का परिकल्पना बेइमानी साबित हो रहा है। कभी भी छत व दीवार गिर सकता है और बड़ा हादसा हो सकता है। कई बार छत का सिलींग गिरने से सहायिका व सेविका द्वारा बच्चों को बचाया गया है। खंडहर में तब्दील हो चुका आंगनबाड़ी भवन में सांप बिच्छु भी अक्सर निकलते रहता है। डर से बच्चों की मां भी बच्चों के साथ आंगनबाड़ी आती है।सहायिका जानकी कुमारी बताती है कि जर्जर भवन के चलते ग्रामीण अपने बच्चों को आंगनबाड़ी भेजना नहीं चाहते हैं। उन्होंने बताया कि हमलोग घर घर घुम घुम कर अभिभावकों को समझा बुझाकर बच्चों को लाते हैं। उन्होंने कहा कि पोषाहार भी यही बनाना पड़ता है। सांप, बिच्छु भी कय बार निकल चुका है। उन्होंने कहा कि विभाग को अविलंब आंगनबाड़ी भवन बनाने की जरूरत है या अन्य भवन में केन्द्र संचालन का निर्देश देना चाहिए।

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)

--ADVERTISEMENT--

--ADVERTISEMENT--

NewsLite - Magazine & News Blogger Template

 --ADVERTISEMENT--

To Top