'Gadar 2’ के बाद गौरव चोपड़ा ने वैवाहिक बलात्कार के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया और इस विषय पर बहस और चर्चा छेड़ने की जरूरत को सामजाया!

0




गौरव चोपड़ा एक ऐसे अभिनेता हैं जो हमेशा से दर्शकों को आश्चर्यचकित करने की क्षमता रखते हैं। जब आप एक दर्शक के रूप में सोचते हैं कि आपने एक अभिनेता के रूप में उनके अगले कदम का पता लगा लिया है, तभी वह आपको चकित कर देते है। फिलहाल, अभिनेता कई सफल परियोजनाओं का आनंद ले रहे हैं और वे अपनी इस नई सीजन में भी पुरस्कार पाने के लिए तैयार है। ‘राणा नायडू’ और ‘गदर 2’ जैसी हिट फिल्मों के इस अभिनेता को अब उनके अगले प्रोजेक्ट से काफी उम्मीदें हैं।


लोगों ने सोचा होगा कि गदर 2 की भारी सफलता के बाद, उन्होंने कोई कॉमर्शियल फिल्म चुनी होगी, लेकिन वे एक ऐसी फिल्म का हिस्सा बने है जो समाज के लिए बेहद जरूरी मुद्दे को छु रही है। उनकी आगामी फिल्म ‘लकीरें 3’ नवंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है और यह फिल्म वैवाहिक बलात्कार जैसे बेहद महत्वपूर्ण विषय पर आधारित है।


सोशल मीडिया पर एक हालिया पोस्ट में, गौरव ने वह इस फिल्म का हिस्सा कैसे बने उसकी अद्भुत कहानी साझा की है और उन्होंने उत्तर प्रदेश के माननीय राज्यपाल श्रीमती को भी अपने हाथों से ट्रेलर जारी करने के लिए धन्यवाद दिया।  चूँकि फिल्म अपनी रिलीज़ से कुछ ही दिन दूर है, गौरव ने अपनी राय साझा करते हुए बताया की,


"अभिनेता के रूप में, ऐसी फिल्में होती हैं जिनका हिस्सा बनकर आप खुशी महसूस करते हैं। चाहे वह निर्देशक के कारण हो या कोई अन्य कारणों से, कई परियोजनाएं आपको खुशी देती हैं। हालांकि, लकीरें वह परियोजना है जो मुझे गर्व देती है। मैं खुलकर कह सकता हूं की मुझे इस तरह की फिल्म का हिस्सा होने पर गर्व है। यह एक ऐसा विषय है जो बेहद विशिष्ट है और इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है, कई लोग ऐसी फिल्मों के लिए हाँ करने से पहले कई बार सोचते हैं। हालांकि, मेरे लिए, सबसे महत्वपूर्ण बात उन कहानियों का हिस्सा बनने की है जो मनोरंजक हैं और समाज के लिए प्रासंगिक भी हैं। यह एक ऐसी फिल्म है जो समाज के लिए प्रासंगिक है। हर कोई वैवाहिक बलात्कार के बारे में जानता है और यह एक वास्तविक चीज़ है। हालाँकि, हम स्पष्ट रूप से इस मुद्दे पर बात करने से भी कतराते हैं। यह शायद हमारे देश में पहली बार है जहां एक मुख्यधारा की फिल्म ने खुले तौर पर इस तरह के मुद्दे को संबोधित करेगी। इसे बहुत ईमानदारी और गंभीरता के साथ बनाया गया है और मुझे विश्वास है, इसके बाद यह मुद्दा चर्चा में आएगा। मुझे इस फिल्म का हिस्सा होने पर गर्व है.. लिंग की परवाह किए बिना हर महिला, पुरुष को इसे जरूर देखना चाहिए। आप सभी को अपने व्यक्तिगत अनुभव के बारे में थोड़ा बता दूं, मैं इस फिल्म और संजीवनी के लिए एक साथ शूटिंग कर रहा था। मेरा शेड्यूल ऐसा था कि 24 घंटों के भीतर में दो जगह शूट करना था, मुंबई में शूटिंग करने के बाद में वहाँ से सीधे लकीरें की शूटिंग के लिए लखनऊ के लिए उड़ान भरता था। 'संजीवनी' में मैं दुनिया के सबसे प्रशंसनीय और शायद सबसे अच्छे पति की भूमिका निभा रहा हूं। दूसरी ओर, लकीरें में, यह बिल्कुल विपरीत है और सोचिए क्या? 24 घंटे के भीतर में दो पूरी तरह से विपरीत किरदारों को निभा रहाँ हैं। तो, कुल मिलाकर, यह एक विशेष और अविश्वसनीय रूप से अवास्तविक अनुभव था। और में इस फिल्म की रिलीज के लिए आतुर हूँ।"


वास्तव में अकल्पनीय काम करने और इस तरह की परियोजना को चुनने के लिए गौरव को बधाई। जैसा कि पहले कहा गया है, उनकी ओर से उम्मीदें बहुत अधिक हैं और उन्होंने अपने लिए जो मानक तय किए हैं, उन्हें देखते हुए वह निश्चित रूप से उन सभी पर खरा उतरेंगे। अधिक अपडेट के लिए बने रहें।

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)

--ADVERTISEMENT--

--ADVERTISEMENT--

NewsLite - Magazine & News Blogger Template

 --ADVERTISEMENT--

To Top