जिला दण्डाधिकारी- सह- उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजन्त्री की अध्यक्षता में पेश-ए-इमाम, मस्जिदों के अध्यक्ष के साथ हुई बैठक, वरीय पुलिस अधीक्षक, उप विकास आयुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम, एडीएम लॉ एंड ऑर्डर रहे मौजूद

0

वायरल व भ्रामक खबरों से सतर्क रहने की जरूरत, असामाजिक तत्वों की सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने के प्रयासों को अपनी सूझबूझ से विफल करें... जिला दण्डाधिकारी सह उपायुक्त



समाहरणालय सभागार में जिला दण्डाधिकारी- सह- उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजन्त्री की अध्यक्षता में पेश-ए-इमाम, मस्जिदों के अध्यक्ष के साथ बैठक की गई। बैठक में दुर्गापूजा त्यौहार में विधि व्यवस्था के बेहतर संधारण में सहयोग की अपील की गई । वरीय पुलिस अधीक्षक वरीय पुलिस अधीक्षक श्री किशोर कौशल, उप विकास आयुक्त श्री मनीष कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम श्री पीयूष सिन्हा, एडीएम लॉ एंड ऑर्डर श्री दीपू कुमार मौजूद रहे ।  

जिला दण्डाधिकारी- सह- उपायुक्त ने कहा कि दुर्गा पूजा के दौरान असमाजिक तत्वों पर विशेष निगरानी की आवश्यकता है । जिला प्रशासन असामाजिक तत्वों को लेकर काफी सतर्क है, शांति समिति व बुद्धिजीवी वर्ग से भी सहयोग अपेक्षित है । उन्होने पेश-ए-इमाम, मस्जिदों के अध्यक्ष से अपील किया कि किसी भी तरह की सूचना मिलती है जो विधि व्यवस्था संधारण में बाधा उत्पन्न कर सकती है तो तत्काल उसकी सूचना जिला प्रशासन को दें । 

जिला दण्डाधिकारी- सह- उपायुक्त ने कहा कि असमाजिक तत्व भ्रामक खबर फैलाने के लिए सोशल मीडिया का मिसयूज करते हैं । नकली/फेक फोटो को फोटोशॉप के माध्यम से बनाया जाता है या फिर कंप्यूटर जेनरेटेड होता है। देखने में यह बिल्कुल असली लगते हैं। किसी अलग जगह की घटना की खबर प्रसारित करते हैं जिससे जनमानस में आक्रोश उपजे। उनका मकसद रहता है की शांति भंग कर तनाव की स्तिथि को उत्पन्न किया जाए और किसी भी तरह से विधि व्यवस्था को बिगाड़ा जाए। इस तरह की खबरों को कभी भी फॉरवर्ड ना करें और अगर आपको पता चलता है कि इस तरह की खबर सर्कुलेट हो रही है तुरंत इसकी सूचना जिला प्रशासन को दें। विधि व्यवस्था बिगाड़ने के उद्देश्य से खबर को साम्प्रदायिक हवा भी दी जाती है और असलियत को विभिन्न तरीकों से तोड़ मडोडकर फॉरवर्ड किया जाता है।

जिला दण्डाधिकारी- सह- उपायुक्त ने सभी से अपील किया की बताए गए विभिन्न प्रकार के मैसेजेस को कभी भी फॉरवर्ड ना करें। अपने स्थानीय थाना, बीडीओ, सीओ, एसडीओ तथा जिले के वरीय पदाधिकारी को तुरंत इस तरह की फर्जी खबरों के बारे में सूचित करें। इन तरह की खबरों को कभी भी खुद से सत्यापित करने की कोशिश ना करें। साइबर सेल द्वारा इन तरह के फॉरवर्ड किए हुए भ्रामक खबरों पर लगातार कड़ी नजर रखी जाएगी। विधि व्यवस्था को बिगाड़ने के उद्देश्य से किए गए फारवर्ड मैसेजेस की विधिवत् जांच की जाएगी और संलिप्त लोगों पर नियमानुसार कार्रवाई किया जाएगा।

वरीय पुलिस अधीक्षक ने कहा की सभी समुदाय का सहयोग और आपसी भाईचारा किसी भी पर्व त्यौहार को मनाने के लिए बहुत जरूरी है। मस्जिद, मजार और अन्य धार्मिक स्थलों के आसपास अपने स्तर से भी निगरानी बनाए रखें। असमाजिक तत्व की गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए आपकी सक्रियता आवश्यक है। जहां भी मूर्तियां स्थापित हो रही/ पंडाल बन रहे हैं वहां पर खास ध्यान रखें। किसी भी तरह कि गतिविधि जिससे आपको लगता है कि विधि व्यवस्था के संधारण में बाधा उत्पन्न ठेस पहुंच सकती है उसकी सूचना तुरंत प्रशासन को दें। जुलूस और विसर्जन के दौरान कोई भी नशे का सेवन ना किया हुआ हो यह सुनिश्चित किया जाए क्योंकि इससे भूल होने की संभावना बढ़ जाती है। साथी यह भी अनुरोध किया कि सभी मस्जिदों पर फ्लड लाइट का प्रबंध किया जाए।

इस मौके पर उपस्थित सभी पेश-ए- इमाम, मस्जिद के अध्यक्ष ने जिला प्रशासन को आश्वस्त किया कि प्रशासन को हरसंभव सहयोग उनकी तरफ से मिलेगा। उनके द्वारा कुछ स्थानों पर पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति, बैरिकेडिंग, साफ-सफाई, बिजली व्यवस्था आदि को लेकर अपना महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए जिसको लेकर जिला प्रशासन के आलाधिकारियों ने उन्हें आश्वस्त किया।

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)

--ADVERTISEMENT--

--ADVERTISEMENT--

NewsLite - Magazine & News Blogger Template

 --ADVERTISEMENT--

To Top