Awareness against women oppression - महिला उत्पीड़न के खिलाफ जागरूकता अभियान एवं बाल श्रमिकों के कानूनी अधिकार का आयोजन

0

महिला उत्पीड़न और बाल श्रम के कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूकता और कानूनी जानकारी को बढ़ावा देने के लिए जिला विधिक सेवा समिति द्वारा एक महत्वपूर्ण अभियान चलाया गया है। इस अभियान के तहत एसडीएलएससी आनंदिया विधिक सेवा समिति के सचिव अमित आकाश सिन्हा के निर्देशन में पीएलवी कार्तिक गोप ने चिमटिया गांव में महिलाओं के साथ महिला उत्पीड़न के खिलाफ जागरूकता अभियान शुरू किया है.

इस अभियान के दौरान महिलाओं के अधिकारों, अनाथ पालन-पोषण योजना, कैदियों के अधिकारों और मानव तस्करी, बाल विवाह और घरेलू हिंसा से संबंधित नियमों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी ग्रामीणों के साथ साझा की गई। इस अभियान के माध्यम से सरकार का लक्ष्य ग्रामीण समुदायों को उनके कानूनी अधिकारों के बारे में समझाना और उनके अधिकारों की रक्षा के लिए सहायता प्रदान करना है।

यह अभियान 100 दिनों तक चलाया जाएगा और किसी भी समस्या के लिए ग्रामीणों को पीएलवी कार्तिक गोप से संपर्क करने का मौका दिया गया है. यह पहल एक सुरक्षित और सक्षम समाज के निर्माण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है और ग्रामीणों को उनके कानूनी अधिकारों के प्रति जागरूक और सशक्त बनाने का अवसर प्रदान कर रही है।

इस अभियान के तहत सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे और उन्होंने इस अभियान को सफल बनाने के लिए दृढ़ संकल्प दिखाया. इस अभियान के माध्यम से महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा और अधिकारों की रक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है, जो एक मजबूत और समर्पित समाज के निर्माण में महत्वपूर्ण है।

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)

--ADVERTISEMENT--

--ADVERTISEMENT--

NewsLite - Magazine & News Blogger Template

 --ADVERTISEMENT--

To Top